कोरोना वायरस 21वी सदी का सबसे वीभत्स अभिशाप:,लेकिन इससे जीतेगा भारत – सुनील सोनी

रायपुर(khabarwarrior)रायपुर लोकसभा क्षेत्र के सांसद सुनील कुमार सोनी क्षेत्रवासियों से अपील करते हुए कहा कि कोरोना वायरस 21वी सदी का सबसे वीभत्स अभिशाप है। पूरी दुनिया इससे लड़ाई लड़ रही है। भारत मे भी आप हम सब मिलकर इससे लड़ाई लड़ सकते है और इसे हरा भी सकते हैं। देश के प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के मार्गदर्शन से इस पर विजय पा सकते हैं।

*जनता कर्फ्यू* यानी जनता के लिए – जनता द्वारा खुद पर लगाया गया कर्फ्यू। रविवार दिनांक 22 मार्च को सुबह 7 बजे से रात 9 बजे तक सभी जनता कर्फ्यू खुद पर लागू करके कोरोना पर विजय अभियान में शामिल हो सकते हैं। वैज्ञानिक दृष्टिकोण से देखा जाय तो 24 घंटे का जनता कर्फ्यू वायरस चक्र में एक ब्रेक साबित हो सकता है। यानी हम सबको अपने अपने घरों में ही रहना है। रात्रि 9 बजे के बाद तो हम वैसे काफी जरूरत होने पर ही बाहर निकलते हैं।

24 घंटे तक वायरस को कोई इंसानी शरीर न मिले तो वायरस स्वतः नष्ट हो जाते हैं। हमारी सड़कें, दफ्तर के दरवाजे, रेलिंग, वाहन लिफ्ट आदि स्वतः सेनिटाइज हो जाएंगे और कोरोना वायरस खुद खत्म हो जाएंगे। यही कारण है कि देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने कोरोना से जंग का एलान *जनता कर्फ्यू* से कर दिया है।

आइये हम सब संकल्प लें कि हम भी कोरोना से जंग में देश के साथ हैं प्रधानमंत्री मोदी जी के साथ हैं और रविवार 22 मार्च को जनता कर्फ्यू खुद पर लागू करेंगे। मैं स्वयं भी पूरे दिन अपने घर ही रहूंगा।

सांसद सुनील सोनी ने कहा कि कोरोना से डरने की नही, संघर्ष की और सावधानियां बरतने की जरूरत है।

हमारी सावधनियाँ ही इसका उपचार है,

प्रत्येक व्यक्ति आने वाले कुछ सप्ताह तक सजग और सतर्क रहें। जब तक बहुत जरूरी न हो घर से बाहर न निकलें।
*रूटीन चेकअप के लिए अस्पताल जाने से बचें।
*आशंकाओं अफवाहों से बचें।
*जितना जरूरी हो उतना ही सामान रखें, अनुचित संग्रह न करें।
*उद्योग, व्यापारिक जगत, एवं उच्च आय वर्ग के लोगों से आग्रह है कि वे अधिनस्त कार्यरत व्यक्तियों का वेतन न काटें।
*60 से अधिक उम्र के लोगों से आग्रह है के वे अनिवार्य रूप से घर से बाहर न निकलें। उन्होंने वित्तमंत्री के नेतृत्व में गठित COVID-19 इकोनॉमिक रेस्पांस टास्क फोर्स से सभी आवश्यक फैसले लेने का भी आग्रह किया है।

उन्होंने कहा कि ऐसे समय जब देश मे राष्ट्रीय आपदा आयी हुई सारा देश एक साथ, एक स्वर में देश के प्रधानमंत्री के साथ खड़ा है। यही भारत की अद्भुत क्षमता है। जिसकी पूरी दुनिया कायल है। देश का हर नागरिक अपने अपने दायित्वों के प्रति न केवल सजग है बल्कि बढ़चढ़ कर सेवाएं भी दे रहा है।

हमारे देश के चिकित्सा जगत के सेवक अपने प्राणों की चिंता किये बिना अपने कर्तव्यों का जिस ढंग से निर्वहन कर रहे हैं। मैं उनके जज्बे और कर्तव्यनिष्ठा को सेल्यूट करता हूँ , नमन करता हूँ, एक ऑटो चालक बस चालक ट्रेन हो या हवाई जहाज के कर्मचारी सभी देशवासी अपने अपने जिम्मेदारियों को बखूबी निभा रहे हैं। ऐसे सभी लोगों के लिए मैं 22 मार्च को संध्या 5 बजे अपने घर के छत पर तालियों से इन सभी का अभिनंदन करूँगा।

आप भी ऐसा कर इन देशप्रेमियों का अभिनंदन करें । इनका हौसला बढ़ाएं। इन कर्तव्यनिष्ठ लोगों को यह अहसास कराएं कि पूरा देश इनके साथ है। इनके कार्यों का सम्मान करता हैं। भारत कोरोना वायरस के इस जंग में निश्चित रूप से विजयी होगा। कोरोना को हारना ही होगा, भारत से भागना ही होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.