कोविड-19: भारतीय वैज्ञानिकों ने विकसित की कम समय में जांच करने वाली किफायती किट

कोरोनावायरस: तिरुवनंतपुरम के संस्थान ने कम समय में जांच करने में सक्षम किफायती किट विकसित की

खबर वारियर–तिरुवनंतपुरम के श्री चित्रा तिरुनल चिकित्सा विज्ञान औऱ तकनीकी संस्थान कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में बड़ी कामयाबी हासिल की है। संस्थान ने SARS-COV2 के एन-जीन्स की पुष्टि के लिए एक खास तकनीक RT-LAMP का इस्तेमाल करते हुए Chitra GeneLamp-N नामक किट तैयार की है।

अलप्पूझा के राष्ट्रीय वाइरॉलॉजी संस्थान ने इस परीक्षण किट को मान्यता दी है और आईसीएमआर को इसकी जानकारी दे दी है। अब एससीटी संस्थान इस तकनीक को बड़े स्तर पर काम लाने के लिए ज़रुरी बदलाव की प्रक्रिया में है, ताकि ज़रूरत पड़ने पर इसका ज्यादा से ज्यादा इस्तेमाल हो सके।

कीमत के लिहाज़ से भी ये नई किट काफी किफायती है, क्योंकि इसकी कीमत महज़ 1000 रुपए होगी, जबकि पीसीआर किट की कीमत 2000-2500 रुपए के बीच होती है। इसके साथ ही नई मशीन की कीमत भी 2.5 लाख रुपए होगी, जबकि RT-PCR मशीन की कीमत करीब 15-40 लाख रुपए के बीच होती है। इस मशीन से नमूने की जांच 2 घंटों में हो सकेगी। अपनी कम कीमत की वजह से इस मशीन का इस्तेमाल ज्यादातर ज़िलों में हो सकेगा ताकि बड़े स्तर पर अगर जांच की ज़रूरत पड़ती है, तो उसे आसानी से किया जा सके

Leave a Reply

Your email address will not be published.