सरकार प्रदेश की जनता का ध्यान भटकाने के चाहे जितने जतन कर ले, अपनी विफलताओं की क़ीमत तो अंतत: चुकानी ही पड़ेगी : भाजपा

रोका-छेका योजना को लेकर कौशिक का प्रदेश सरकार पर तीखा हमला

रायपुर(खबर वारियर)भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता और प्रदेश विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने प्रदेश सरकार को महज़ बातें बनाने वाली और ड्रामेबाज़ी करने वाली बताया है। कौशिक ने कहा कि यह सरकार प्रदेश की जनता का ध्यान अपनी विफलताओं से हटाने के चाहे जितने जतन कर ले, उसे अपनी राजनीतिक लफ़्फ़ाज़ियों की क़ीमत तो अंतत: चुकानी ही पड़ेगी।

नेता प्रतिपक्ष कौशिक ने कहा कि प्रदेश सरकार में एक भी काम करने का माद्दा तो नज़र आ ही नहीं रहा है, और नित-नई योजनाओं के नाम पर प्रदेश को भरमाने में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल लगे हुए हैं। मवेशियों के लिए मुख्यमंत्री बघेल रोका-छेका योजना के नाम पर नौटंकी की एक और दुकान खोलकर बैठ गए हैं।

कौशिक ने कहा कि रोका-छेका तो छत्तीसगढ़ की परंपरा में है, इसे योजना का नाम देकर प्रदेश सरकार राज्य की ग्रामीण परंपरा को लेकर अपने अज्ञान का ही प्रदर्शन कर रही है और इस एक और फ़र्ज़ी योजना के नाम पर प्रदेश का धन पानी की तरह बहा रही है।

नेता प्रतिपक्ष कौशिक ने कहा कि रोका-छेका के नाम पर प्रदेश का ख़ज़ाना लुटाने वाली प्रदेश सरकार एक तरफ़ तो प्रदेश की बदहाल आर्थिक स्थिति का रोना रोती रहती है, दूसरी तरफ़ अपनी फ़र्ज़ी योजनाओं के प्रचार के नाम पर पैसा पानी की तरह बहाकर आख़िर वह क्या साबित कर रही है?

कौशिक ने कहा कि बिलासपुर में मुख्यमंत्री के क़ाफ़िले के रूट में आवारा मवेशियों का आना यह साफ करता है कि प्रदेश सरकार अपनी इस योजना में बुरी तरह मुँह की खा रही है।

धरमलाल कौशिक ने कहा कि दरअसल सरकार के पास कोई विज़न ही नहीं है क्योंकि यह सरकार ज़मीनी सच्चाइयों से पूरी तरह कटी हुई है, इसीलिए प्रदेश सरकार अपनी योजनाओं में विफल हो रही है। रोका-छेका के लिए प्रदेश सरकार ने की ओर से मवेशियों के चारे-पानी का तो कोई इंतज़ाम किया नहीं जा रहा है, तो फिर मवेशियों को रोकने में ग्रामीण बेबस ही नज़र आएँगे। पूरे प्रदेश का यही हाल है।