भारत बचाओ आंदोलन- केंद्रीय ट्रेड यूनियनों का प्रदर्शन, कर्मचारी विरोधी नीति के विरोध में संध का समर्थन, कोरोना संक्रमण से बचने प्रदेश में मोहल्ला शिक्षक 31 दिसंबर तक बंद करने की रखी मांग

रायपुर(खबर वारियर)केंद्र व राज्य सरकार के कर्मचारी विरोधी नीतियों के विरोध में केन्द्रीय ट्रेड यूनियनों के आह्वान पर पर महात्मा गांधी द्वारा भारत छोड़ों आंदोलन के तर्ज पर भारत बचाओं आंदोलन 09 अगस्त को पूरे देश में किया जा रहा है। इसी दिन इस आंदोलन का छत्तीसगढ़ प्रदेश तृतीय वर्ग शासकीय कर्मचारी संध द्वारा भी 07 सूत्रीय मांगों के लिए प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी एवं मुख्यमंत्री श्री भूपेश बधेल को मांगपत्र सौपा गया।

बस्तर संभाग, बिलावपुर संभाग, कांकेर, रायगढ़, अंबिकापुर, महासमुंद जिलों से देर शाम तक प्रदर्शन व ज्ञापन सौपने की जानकारी प्राप्त होती रही।

प्रदेश तृतीय वर्ग कर्मचारी संध के प्रांतीय अध्यक्ष विजय कुमार झा एवं जिला शाखा अध्यक्ष इदरीश खाॅन ने बताया है कि केन्द्र सरकार द्वारा रेल्वें का नीजिकरण करने, मंहगाई भत्ता पर रोक लगाने, कोरोना वारियर्स के संरक्षण न करने, प्रदेश सरकार द्वारा भी मंहगाई भत्ता का भुगतान न करने, शिक्षकों को मोहल्ला शिक्षक योजना के तहत बच्चों, पालकों एवं शिक्षकों को कोरोना संक्रमण के मुंह में ढकेलने से नाराजगी है।

इसका विरोध करते हुए सभी जिला मुख्ययालयों में 07 सूत्रीय मांग की ओर केन्द्र व राज्य सरकार का ध्यान आकृष्ट करने प्रदर्शन कर मांगपत्र सौपे गए।

07 सूत्रीय मांग पत्र प्रमुख रूप से केन्द्र सरकार ने कोरोना महामारी एवं युद्व का माहौल बनाकर आर्थिक मंदी को आधार बनाकर वेतनवृद्वि पर रोक लगाने, मंहगाई भत्ता पर रोक लगाने, वर्ष 2004 के बाद शासकीय सेवा में प्रवेश करने वाले शासकीय सेवकों को पेंशन के लाभ से वंचित करने,सरकारी संस्थाओं एवं रेल्वे का निजीकरण, आउटसोर्सिंग बंद करने, नई पेंशन योजना बंद कर 2004 के पूर्व का पेंशन योजना लागू करने, जिसके संबंध में सर्वोच्च न्यायसालय ने आदेश भी पारित किया है।

श्रम विरोधी नीतियां लागू करना बंद करने, रिक्त पदों पर भर्ती कर बेरोजगारों को रोजगार देने, कोरोना वारियर्स के सभी संवर्गो को सुरक्षा व बीमा योजना लागू करने, महामारी में केन्द्र सरकार राज्य सरकारों को विशेष आर्थिक महायता प्रदान करने, प्रदेश में जारी ‘‘मोहल्ला शिक्षक‘‘ व्यवस्था को तत्काल 31 दिसंबर तक बंद रखने, ऐसा न करने पर शिक्षकों, पालकों, बालकों में कोरोना संक्रमण का खतरा उत्पन्न होने की स्थिति से बचने इसे तुरंत  निरस्त  केेरने की मांग शामिल है।

राजधानी में प्रर्दशन का नेतृत्व प्रदेशाध्यक्ष विजय कुमार झा, जिला शाखा अध्यक्ष इदरीश खाॅन, कार्यकारी प्रांताध्यक्ष अजय तिवारी, महामंत्री उमेश मुदलियार, संभागीय अध्यक्ष संजय शर्मा, प्रांतीय सचिव विमल चंद्र कुण्डू, बजरंग मिश्रा प्रांताध्यक्ष अनियमित कर्मचारी संध, महासचिव राजकुमार कुशवाहा, नीलकंठ साहू, भजन बाध, सुनील चन्द्रवंशी, एस.के.सोनी, शोभित राम देवाॅगन, दिनेश पटेल, आदि ने किया। इसी प्रकार संध के संरक्षक पी.आर.यादव के नेतृत्व में बिलासपुर में तथा शेख कलीमुल्लाह खाॅन के नेतृत्व में रायगढ़ में आंदोलन किया गया।