वर्ष वार आंकड़े पेश कर कांग्रेस ने कहा- भाजपा हुई बेनकाब,ये है धान खरीदी का सच

 रायपुर(khabarwarrior)भाजपा के धरने पर प्रतिक्रिया देते हुये प्रदेश कांग्रेस के महामंत्री एवं संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि भाजपा की किसानों को लेकर की जा रही राजनीति और किसान विरोधी चरित्र उजागर हुये है।

राज्य में जब भाजपा की रमन सरकार थी तब मोदी सरकार ने कहा था 300 रू. बोनस नहीं देना है तो भाजपा सरकार चिट्ठी लिखकर रह गयी। न किसानों को बोनस दिया न मोदी सरकार के खिलाफ धरना दिया। जब मोदी सरकार ने 300 रू. बोनस देने से रोका तब भाजपा खामोश रही।

भाजपा ने किसानों के लिए नहीं लिखीचिट्ठी

जब छत्तीसगढ़ सरकार ने कहा कि 2500 रू. देंगे और मोदी सरकार ने रोका तब भी भाजपा ने इस किसान विरोधी फैसले के खिलाफ धरना नहीं दिया। किसानों के हितैषी होते तो तब भी धरना देते। इस बार तो भाजपा ने छत्तीसगढ़ के किसानों के लिये चिट्ठी भी नहीं लिखी।

17 लाख किसानों ने केन्द्र की मोदी सरकार को पत्र लिखा लेकिन भाजपा ने तो धरना देना तो दूर एक चिटी लिखना तक जरूरी नहीं समझा। भाजपा के लोकसभा सदस्यों में से कोई भी किसानों के साथ खड़ा नहीं हुआ।

भाजपा का किसान विरोधी चरित्र उजागर

आज के भाजपा के  धरने पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुये प्रदेश कांग्रेस के महामंत्री एवं संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि भाजपा को धरना तब करना था जब मोदी सरकार ने कहा था किसानों को 2500 रू. मत दो। तब तो किसानों के लिये भाजपा चिट्ठी भी नहीं लिखी। आज के भाजपा के धरने से भाजपा की किसानों को लेकर की जा रही राजनीति और किसान विरोधी चरित्र दोनों हुआ बेनकाब।

पिछली सरकार में धमतरी में किसानों पर किया गया बर्बर लाठीचार्ज अभी तक छत्तीसगढ़ के लोग नहीं भूले है। भाजपा सरकार में ही अभनपुर के किसान की अश्रुगैस का गोला फटने से मौत की घटना सबका अभी तक याद है।

अभनपुर में पुलिस की अश्रुगैस लाठी से किसान केजूराम बारले की मौत हो गयी। आरंग के रीवा गांव का किसान गोकुल साहू सहित सैकड़ों किसान खेतों को पानी नहीं मिलने के कारण और कर्ज के बोझ तले आत्महत्या कर चुके है।

सैकड़ों किसानों ने भाजपा के 15 साल के शासनकाल में आत्महत्या की है। भाजपा अपने किसान विरोधी रवैये का फल भुगत ही रही है।भाजपा ने धान खरीदी पर घोटाले किये है। किसानों को लूटा है। घोटाला और लूट पर रोक लगी है। इसलिये भाजपा किसानों का मुखौटा लगाकर आंदोलन कर रही है।

किसानों को धान का 2500 रूपए देने की बात पर भाजपा मुंह छिपाते रही – कांग्रेस

प्रदेश कांग्रेस कमेटी के महामंत्री एवं संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने  कहा  कि भाजपा किसानों के साथ कभी नहीं रही है, अभी केवल घड़याली आंसू बहा रही है। जब किसानों को 2500 रूपए देने की बारी आयी तो तब आगे-पीछे होने लगी और मुंह छिपाते फिर रही थी।
भूपेश बघेल की कांग्रेस सरकार ने अपने दम पर पिछले साल किसानों की 11000 करोड़ की कर्जामाफी करते हुए उनसे 2500 रूपए में 80 लाख मीट्रिक टन से अधिक धान खरीदा था।

किसानों को 25 सौ रूपए की अंतर
की राशि जल्द मिलेगी

कांग्रेस सरकार किसानों को धान की कीमत 2500 रूपए देने का वायदा हर हाल पूरा कर रही है। किसानों को 2500 रूपए के अंतर की राशि देने के लिए मंत्री स्तरीय कमेटी की रिर्पोर्ट के अुनसार जल्द ही किसानों को उनके खातों में राशि का भुगतान किया जाएगा।

उन्होंने बताया कि छत्तीसगढ़ सरकार ने राज्य गठन के बाद इस बार रिकार्ड धान की खरीदी की है। राज्य गठन के बाद अब तक सर्वाधिक 82.80 मीटरिक टन धान की खरीदी की गई है। करीब 18 लाख 21 हजार किसानों के खाते में 14 हजार 700 करोड़ रूपए का भुगतान किया गया है।

छत्तीसगढ़ बनने के बाद रिकॉर्ड धान खरीदी

कांग्रेस की सरकार ने पिछले साल 80 लाख मीटरिक टन धान खरीदा था जो इस साल अपने ही रिकार्ड को तोड़ा है। इस साल 2 लाख 34 हजार ज्यादा किसानों से धान खरीदा गया है।

शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि केन्द्र में भारतीय जनता पार्टी की सरकार है। जब समर्थन मूल्य 2500 रूपए करने के लिए मुख्यमंत्री द्वारा छत्तीसगढ़ में सभी राजनैतिक दलों की बैठक बुलाई गयी तब भाजपा ने बैठक में आना गंवारा नहीं समझा। उल्टे सीधे बहाने बनाये।

भाजपा बहा रही घड़ियाली आंसू

केन्द्र में  भाजपा की सरकार है, भाजपा को सामने आकर किसानों को समर्थन मूल्य 2500 रूपए देने में भाजपा की केन्द्र सरकार की बाधा को दूर करना था। लेकिन भाजपा किसानों की भलाई नहीं चाहती, केवल घड़ियाली आंसू बहाना जानती है।

भाजपा  को छोड़कर छत्तीसगढ़ की सभी पार्टियों ने किसानों को धान का समर्थन मूल्य 25 सौ रूपए में करने के लिए अपनी सहमति दी तब भाजपा के लोग जो आज किसानों के लिए आंसू बहा रहे हैं वे कहां थे।
त्रिवेदी ने कहा  कि केन्द्र सरकार धान सहित विभिन्न फसलों की समर्थन मूल्य तय करती है। राज्य सरकार केन्द्र की ओर से धान खरीदती है। हम अपने राज्य के किसानों को राज्य सरकार के कोष से 25 सौ रूपए की अंतर की राशि देना चाहते थे लेकिन इसमें भी भारतीय जनता पार्टी को आपत्ति थी।

बोनस राशि देने पर केन्द्र के द्वारा धान खरीदी के लिए राशि नहीं देने का फरमान सुना दिया। यहां तक कि किसानों को 2500 रूपए में धान खरीदी के लिए अपनी बात रखने के लिए मुख्यमंत्री श्री बघेल प्रधानमंत्री से मिलना चाहते थे तब प्रधानमंत्री ने उन्हें मिलने का समय भी नहीं दिया। यह छत्तीसगढ़ के किसानों का सीधा अपमान है। इसे किसान हमेशा याद रखेंगे।

2500रु कीमत देने वाली सरकार को किसानों का समर्थन

प्रदेश कांग्रेस के महामंत्री एवं संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा कि वर्ष 2018 में जब चुनाव थे तब राज्य और केन्द्र में भारतीय जनता पार्टी की सरकार थी। तब केन्द्र सरकार ने बोनस देने की रियायत दी थी। फिर कांग्रेस सरकार के साथ वह दोहरा मापदंड क्यो अपनाया जा रहा है।

भारतीय जनता पार्टी किसी का भला नहीं चाहती है। केवल धर्म से धर्म को और जाति को जाति से लड़ा कर सत्ता हथियाने में ही उसका विश्वास है। उनकी पोल अब खुल चुकी है।

इसलिए छत्तीसगढ़ की जनता ने उन्हें बाहर का रास्ता दिखाया है और जनता ने छत्तीसगढ़ के किसानों को धान की 2500 रूपए कीमत देने वाली कांग्रेस सरकार को अपना पूरा समर्थन दिया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *