नए सिरे से बसेगा नंदनवन, बढ़ेगा परिंदों का कुनबा

रायपुर(khabar warrior)- नंदनवन को वन विभाग ने अब नए सिरे से बसाने की तैयारी शुरू कर दी है। इसके लिए नंदनवन प्रबंधन कार्ययोजना तैयार करके वन विभाग को पत्र लिख चुका है। इसके बाद जल्द ही यहां पक्षियों के कई बाड़े तैयार किए जाएंगे। कुल मिलाकर देखा जाए तो नंदनवन में अब कई देसी और विदेशी पक्षियों के चहक सुनाई देगी। फिलहाल अभी देसी समेत विदेशी पक्षी हैं, लेकिन अब यहां खाली पड़े बाड़ों को पक्षियों के लिए तैयार किया जाएगा।

दूसरी ओर नंदनवन में कुछ साल पहले शेर, टाइगर, भालू, मगरमच्छ, अजगर सांप आदि जानवरों का बसेरा रहता था। फिलहाल नवा रायपुर में एशिया के सबसे बड़े मानव निर्मित जंगल सफारी में सभी जानवरों को अटैच कर दिया है। बता दें कि अभी आस्ट्रेलियन, साइब्रेरियन, ईएमयू, एशिया महाद्वीप में पाए जाने वाले पक्षी हंै। इसके अलावा मोर, तोता आदि देसी पक्षी हंै। अब इनकी संख्या कुनबा को बढ़ाया जाएगा, ताकि सैलानियों और पक्षी प्रेमियों में बढ़ोतरी हो सकें।

ईको पार्क के रूप में विकसित जाएगा नंदनवन

नंदनवन लगभग 22 एकड़ में फैला है। इसको ईको पार्क के रूप में विकसित किया जाएगा। यहां गार्डन, बच्चों के झूले समेत हरियाली बढ़ाने के लिए पौधारोपण किया जाएगा। यहां पूरे परिसर को पक्षियों के बसेरे के रूप में विकसित किया जाएगा, ताकि यहां पक्षियों के कुनबे को बढ़ाया जा सके।

रोज पहुंचे 500 से अधिक पर्यटक

फिलहाल नंदनवन में कोई जंगली जानवर नहीं होने के बावजूद इस समय पर्यटकों की संख्या में भी कमी नहीं है। यहां रोज 500 से अधिक सैलानी पहुंच रहे है। रही बात यह रविवार या छुट्टी के दिन यहां दो हजार से अधिक सैलानी पहुंचते है। अधिकारियों के मुताबिक पिछले साल जनवरी में लगभग 40 हजार सैलानी पहुंचे। वहीं इस साल जनवरी माह में 38 हजार 400 पर्यटन पहुंचे हैं।