“कल्पतरू सेवा समिति ने कर्मठ महिलाओं को कि‌‌या सम्मानित”

भिलाई(khabar warrior)- स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती महाविद्यालय हुडको भिलाई में कल्पतरु सेवा समिति एवं महिला सेल के संयुक्त तत्वाधान में महिला दिवस के अवसर पर चतुर्थ वर्ग की कर्मठ महिलाओं को सम्मानित किया गया जो कोरोना के कठिन दौर में भी निष्ठा पूर्वक अपने कर्तव्यों का निर्वहन किया व महाविद्यालय की सफाई व्यवस्था बनाए रखी।

कल्पतरू सेवा समिति प्रभारी सहायक प्राध्यापक डॉ अजीता सजीत ने बताया कि निस्वार्थ एवं सेवा भाव से कार्य संपादन के लिए सुशीला ठाकुर, कीर्ति साहू, संतरा बंजारे, भुनेश्वरी ध्रुव को पौधा एवं उपहार देकर सम्मानित किया गया। कल्पतरु इकाई की स्थापना आर्थिक रुप से कमजोर लोगों की सहायता व सशक्त लोगों के प्रोत्साहन हेतु बनाया गया है।

महाविद्यालय के सीओओ डॉ. दीपक शर्मा ने सम्मानित होने वाले महिलाओं को बधाई देते हुए कहा शिक्षण संस्थाओं के शैक्षणिक व अशैक्षणिक स्टॉफ भी कोरोना वारियर है क्योकि कोरोना काल की विषम परिस्थितियों में भी यह शिक्षा के माध्यम से अपने दायित्वो का निर्वहन सफलतापूर्वक कर रहे है।

कल्पतरू सेवा समिति की चेरयरमेन डॉ. मोनीषा शर्मा ने सम्मानित महिला कर्मचारियों को बधाई दी एवं कहा कि महिलाएं समाज की धूरी है घर व बाहर दोनों में तालमेल बनाए रखती है। प्राचीन समय में महिलाओं पुरुषों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर काम करती थी वह देश के विकास में सहायता प्रदान करती थी, उस समय धारणा थी जहां नारी की पूजा होती थी वहां देवताओं का वास होता था पर आधुनिक काल में महिलाओं की स्थिति खराब है। इसलिए महिला सशक्तिकरण की अधिक आवश्यकता है।

प्राचार्य एवं कल्पतरू सेवा समिति की अध्यक्ष डॉ. हंसा शुक्ला ने सम्मानित कर्मठ महिलाओं को बधाई दी एवं कहा महिलाएं हर क्षेत्र में आगे आ रहे हैं व चतुर्थ वर्ग की महिलाओं के कारण महाविद्यालय सुव्यवस्थित व सुचारू रूप से संचालित हो पाया इस बुरे समय में उनका सहयोग अतुलनीय है।

सम्मानित होने पर सुशीला ठाकुर ने कहा कितने वर्ष तक हम काम कर रहे हैं पर किसी ने भी हमें इस प्रकार सम्मानित नहीं किया मुझे बहुत खुशी हुई। भुवनेश्वरी ध्रुव ने हर्ष व्यक्त करते हुए कहा यह मेरा नहीं अपितु मेरे कार्य का सम्मान है। संतराम बंजारे ने बताया इस प्रकार के सम्मान मिलने से उत्साह बढ़ता है व काम करने की इच्छा बलवती होती है। कीर्ति साहू ने हर्ष व्यक्त की और कहां मैं काम को छोटा या बड़ा समझकर नहीं करती काम मेरे लिए पूजा के समान है। कोरोना समय में भी हमें पूरा वेतन मिल रहा है यह बहुत प्रसन्नता का विषय है।

कार्यक्रम में महाविद्यालय के सभी प्राध्यापक प्राध्यापकों ने भाग लिया और कार्यक्रम को सफल बनाने में डॉ. तृषा शर्मा एसोसिएट प्रोफेसर शिक्षा विभाग एवं सहायक प्राध्यापक दीपक सिंह (एनएसएस) प्रभारी का विशेष योदगदान रहा।