फेडरेशन ने सीएम का अनुकंपा नियुक्ति के लिए जताया आभार शासकीय सेवकों की इन मांगों को लेकर हुई सकारात्मक चर्चा

रायपुर(khabar warrior)- छत्तीसगढ़ कर्मचारी अधिकारी फेडरेशन के प्रतिनिधिमंडल मुख्यमंत्री निवास में भेंटकर शासकीय कर्मियों के हित में अनुकंपा नियुक्ति हेतु तृतीय श्रेणी के पदों पर दस प्रतिशत सीलिंग हटाने संबंधी लिए गए ऐतिहासिक निर्णय की सराहना करते हुए मुख्यमंत्री बघेल के प्रति आभार जताया और उनका अभिनंदन किया।

फेडरेशन के प्रांतीय संयोजक कमल वर्मा ने बताया कि फेडरेशन विगत दो वर्षों से अनुकंपा नियुक्ति में सीलिंग हटाने संघर्षरत था। फेडरेशन के दिसंबर 2020 में 14 सूत्रीय माँगों को लेकर कलम रख मशाल उठा राज्य व्यापी आंदोलन किया था। आंदोलन के माँगपत्र में यह मुद्दा भी प्रमुख था। उन्होंने बताया कि प्रदेश में कोरोना संक्रमण से 940 से अधिक शासकीय सेवकों की मौत को लेकर फेडरेशन ने सरकार से अनुकंपा नियुक्ति में सीलिंग को शीघ्र बंधनमुक्त करने मुख्यमंत्री को ज्ञापन दिया था।

मुख्यमंत्री ने संवेदनशीलता दिखाते हुए सीलिंग 31 मई 2022 तक शिथिल करने का निर्णय लिया ।मुख्यमंत्री को प्रतिनिधिमंडल ने इस निर्णय के लिए धन्यवाद ज्ञापित करते हुए आभार व्यक्त किया।इस मौके पर फेडरेशन के 14 सूत्रीय मांगों के निराकरण करने मुख्यसचिव की अध्यक्षता में कमेटी बनाने की मांग भी की गई। शासकीय सेवकों के माँगों के निराकरण के लिए फेडरेशन ने मुख्यसचिव की अध्यक्षता में कमेटी बनाने सीएम को पुनः ज्ञापन दिया है। मुख्यमंत्री ने प्रतिनिधिमंडल को कमेटी गठित करने का आश्वासन दिया है।

प्रतिनिधिमंडल ने महंगाई और कोरोना से जूझ रहे शासकीय सेवकों को जुलाई 2019 का लंबित पांच प्रतिशत महंगाई भत्ता की मांग की गई। जिसे स्थिति सामान्य होने पर स्वीकृत करने की बात कही।विगत दो वर्षों से कोरोना से संक्रमित शासकीय सेवकों/परिवार के सदस्यों का इलाज शासन द्वारा बनाने गए कोविड केयर सेंटर में किया गया था। प्रतिनिधिमंडल ने सीएम से इलाज में की गई खर्च का प्रतिपूर्ति देयक का भुगतान हेतु शासन से आदेश जारी करने का अनुरोध किया,जिसपर सीएम ने सहमति देते हुए शीघ्र निर्णय लेने आश्वासन दिया है।

प्रदेश के विभिन्न मान्यता प्राप्त संगठनों की मान्यता पंजीयक फर्म्स एवं संस्थाएं द्वारा निर्धारित कार्यकाल अनुसार करने की मांग भी रखी गई। जिसे शासन को आवश्यक कार्यवाही हेतु प्रेषित करने का आदेश दिया गया।अनुकंपा नियुक्ति आदेश में पति /पत्नी की कोरोना से दिवंगत कर्मचारी के आश्रित, सहायक शिक्षक के पदों में नियुक्ति हेतु बी एड/डी एड/टी ई टी के अनिवार्यता को शिथिल करने,सहायक शिक्षक विज्ञान के पद पर अनुकंपा नियुक्ति, अनुकंपा नियुक्ति के मामलों में वित्त विभाग द्वारा जारी आदेश दिनांक 29/07/2020 में शिथिलीकरण करने की मांग भी की गई।

इस अवसर पर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि राज्य सरकार शासकीय सेवकों के दुःख-सुख के हर घड़ी में उनके साथ खड़ी है। प्रदेश में शासकीय सेवक कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए दिन-रात कार्य कर रहे हैं। इस वैश्विक महामारी से प्रदेश के कई शासकीय सेवकों की मौत भी हुई है। इसका हम सभी को बहुत दुःख है। इसको ध्यान में रखते हुए हमने कर्मचारियों के हित में अनुकंपा नियुक्ति के संबंध में निर्णय लेकर उन्हें हर संभव राहत पहुंचाने का कार्य कर रहे है।अनुकंपा नियुक्ति में बिचौलियों के सक्रिय होने के शिकायतों पर मुख्यमंत्री ने चेतावनी देते हुए कहा कि यदि किसी भी प्रकार की लापरवाही या दलाली का शिकायत मिला तो वे कठोर कार्यवाही करेंगे।

इस दौरान प्रतिनिधिमंडल द्वारा भी राज्य सरकार के इस महत्वपूर्ण फैसले को कर्मचारी हित में महत्वपूर्ण बताया। उन्होंने कहा कि संकट की इस घड़ी में कर्मचारियों को राहत पहुंचाने में यह निर्णय काफी मददगार साबित हुआ है। प्रतिनिधिमंडल में सर्वश्री आर.के. रिछारिया, विजय झा, राजेश चटर्जी, बी.पी. शर्मा, चंद्रशेखर तिवारी, संजय सिंह, राकेश शर्मा,पंकज पांडेय,अश्वनी चेलक,यशवंत वर्मा,सलीम खान उपस्थित थे।