दाण्डी यात्रा में हजारों स्कूल सफाई कर्मचारियों ने राजधानी पहुंचकर दिया धरना, नियमितीकरण व अन्यमांगों के लिए समिति गठित

रायपुर (खबर वारियर) छत्तीसगढ़ के शासकीय शालाओं में कार्यरत् अंशकालिक स्कूल सफाई कर्मचारियों द्वारा पूर्व निर्धारित कार्यक्रम अनुसार 02 अक्टॅूबर को सभी संभाग जिलों से दाण्डी यात्रा प्रारंभ होकर 05 अक्टॅूबर को ईदगाहभाठा मैदान में एकत्र होकर मुख्यमंत्री निवास धेराव का कार्यक्रम आयोजित किया गया था। इस आंदोलन में प्रदेश के सभी संभाग व जिलों, विकासखण्ड तहसीलों से लगभग 20 हजार स्कूल सफाई कर्मचाारी राजधानी के बूढ़ातालाब में अनिश्चितकालिन धरना देकर बैठ गए।

आंदोलनकारियों के प्रतिनिधिमण्डल से देर शाम कमलप्रीत  सिह सचिव स्कूल शिक्षा से लंबी वार्ता हुई। उन्होने मुख्यमंत्री के रायपुर में उपलब्ध न होने की स्थिति में नियमितिकरण सहित अन्य मांगों के लिए 3 सदस्यीय समिति का गठन तत्काल कर, लिखित में आदेश प्रदान किया। तब आंदोलनकारियों ने अपना धरना स्थगित किया।

प्रदेश अंशकालिक स्कूल सफाई कर्मचारी कल्याण संध के प्रांताध्यक्ष संतोष खाण्डेकर व संरक्षक प्रदेश तृतीय वर्ग कर्मचारी संध के प्रांताध्यक्ष विजय कुमार झा ने बताया है कि प्रदेश के स्कूल सफाई कर्मचारियों की व्यापक रैली के बाद प्रशासन ने उच्च स्तरीय अधिकारियों से चर्चा हेतु 11 सदस्यीय टीम बी.टी.आई.मैदान स्थित कार्यालय में आमंत्रित किया।

संध प्रतिनिधियों व सचिव से लगभग एक धंटे की लंबी वार्ता के बाद स्कूल शिक्षा सचिव, वित्त सचिव, सामान्य प्रशासान विभाग सचिव की समिति तत्काल गठित पर 15 दिवस के भीतर सभी मांगों को समिति के समक्ष प्रस्तुत कर नियमितिकरण व उसके लिए वित्तीय संसाधन जुटाने संबंधी सुझाव व प्रस्ताव प्रस्तुत करने तथा समिति द्वारा शीध्र शासन को प्रतिवेदन प्रस्तुत करने का निर्णय लिया गया। इसके अतिरिक्त उन्होने अपने स्तर पर अंश कालिक स्कूल सफाई कर्मचारियों का एप बनाकर ऑनलाइन मानदेय भुगतान करने, जिला शिक्षा अधिकारी एवं विकास खण्ड शिक्षा अधिकारी के कार्यालयों का चक्कर न काटकर प्रतिमाह 5 तारीख तक सीधे खाते में जमा कराने की व्यवस्था करने का आश्वाससान दिया।

शिक्षा विभाग में राशि रोककर ब्याज कमाने वालों पर अनुशासनात्मक कार्यवाही करने, तथा कारोना काल में दिवंगत सफाई कर्मचारियों के स्थान पर उनके परिजनों को ही नियुक्ति देने का निर्देश जारी करने हेतु अपनी सहमति दी।

कारोना काल में नो वर्क नो पे का आदेश कर अल्प वेतन भोगी कर्मचारियों का वेतन रोकने वालों पर भी सक्त कार्यवाही करने का आश्वासन दिया है। उन्होने स्पष्ट किया कि समिति के समक्ष सभी समस्याओं को दस्तावेजी साक्ष्य के साथ संध प्रस्तुत करेगा। समिति 15 दिवस की समय सीमा में संध प्रतिनिधियों को आमत्रित कर बिना आंदोलन के चर्चा के माध्यम से समस्या का निदान करने, दिपावली तक सीधे मानदेय खाते में जमा कराने का आश्वासान पूर्ण विश्वास के साथ दिया।

प्रतिनिधि मण्डल में चर्चा करने हेतु प्रदेश तृतीय वर्ग कर्मचारी संध प्रांताध्यष्क्ष विजय कुमार झा, प्रांतीय अध्यक्ष संतोष खाण्डेकर, कार्यकारी प्रांतीय अध्यक्ष अजय तिवारी, कृष्णा साहू, पंकज कुमार यादव, रोहित माहला,़ ऋतु चैहान,कन्हैया पटेल, वीरेन्द्र साहू, अमर नाथ गण्डेल, नरेन्द्र साहू, मंगलेश सिन्हा, श्याम देव, विदुर राम, मीना सेन आदि शामिल थे।

चर्चा में सेतुबध का कार्य अतुल विश्वकर्मा डिप्टी कलेक्टर, रायपुर द्वारा किया गया। वहीं एन.आर.साहू अतिरिक्त जिला दण्डाधिकारी,  मुकेश कोठारी डिप्टी कलेक्टर,  ज्योति सिंह तहसीलदार, सहित अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक, सहायक पुलिस अधीक्षक नगर आदि पुलिस प्रशासन का सौहाद्रपूर्ण वातावरण में चर्चा का मार्ग प्रशस्त करने में सहयोग प्राप्त हुआ।