अनिश्चितकालीन हड़ताल के लिये फेडरेशन को किया बाध्य -कमल वर्मा

प्रदेश भर के कर्मचारियों ने हड़ताल को अंजाम तक पहुँचाने ले रहे हैं संकल्प,

जिला एवम् ब्लॉक स्तर पर तैयारियों को लेकर चल रहा युद्ध स्तर पर बैठकों का दौर ,

तहसीलदार भी आंदोलन में होंगे शामिल

रायपुर(खबर वारियर) छत्तीसगढ़ कर्मचारी अधिकारी फेडरेशन आव्हान पर कर्मचारी-अधिकारी अपनी दो सूत्रीय माँग देय तिथि से 34 प्रतिशत मंहगाई भत्ता एवं सातवें वेतनमान में गृहभाड़ा भत्ते को लेकर चरणबद्ध आंदोलन कर रहे है।फेडरेशन के तृतीय चरण के आंदोलन में 25 जुलाई से 29 जुलाई तक कर्मचारियों में राज्यव्यापी आक्रोश दिखा था। फेडरेशन के बैनर तले हुए आंदोलन से प्रदेश के समस्त शासकीय कार्यालयों में तालाबंदी के साथ ही शासकीय तंत्र पूर्णतः ठप्प रहा।जोकि देश भर के कर्मचारी संगठनों में चर्चा का विषय बना हुआ है।

गौरतलब है कि फेडरेशन ने प्रथम चरण आंदोलन के तहत 30 मई 2022 को सभी जिलों एवम् 146 ब्लॉक में प्रदर्शन कर मुख्य सचिव के नाम कलेक्टर व एसडीएम को ज्ञापन सौंपा था। वहीं,द्वितीय चरण आंदोलन में 29 जून 2022 को छत्तीसगढ़ के 53 विभागों के कर्मचारी-अधिकारी एक दिवस का अवकाश लेकर जिले एवम् समस्त ब्लॉकों में महारैली निकालकर मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपा था।तृतीय चरण के आंदोलन में 25 से 29 जुलाई 2022 तक प्रदेश भर के शासकीय सेवकों ने सामूहिक अवकाश लेकर कलम बंद-काम बंद हड़ताल किया था। जिला एवम् ब्लॉक मुख्यालय में धरना प्रदर्शन करने के पश्चात 29 जुलाई को जिला/ब्लॉक मुख्यालय में महारैली निकालकर कलेक्टर के माध्यम से मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपा था ।

फेडरेशन के प्रांतीय संयोजक कमल वर्मा ने बताया कि 31 जुलाई को रायपुर में फेडरेशन से जुड़े समस्त प्रांत अध्यक्षों,संभाग प्रभारियों,संयोजकों एवम् जिला संयोजकों की मैराथन बैठक आयोजित की गई थी।उक्त बैठक में तीन चरणों के आंदोलन का समीक्षा किया गया।बैठक में सर्वसम्मति से चौथे चरण का अनिश्चितकालीन हड़ताल 22 अगस्त से करने का निर्णय लिया गया।

बैठक में उपस्थित पदाधिकारियों ने शासन द्वारा आंदोलन को लेकर समाधानकारक पहल नहीं होने एवम् शासन द्वारा वेतन कटौती करने जैसे आदेश का निंदा एवम् आक्रोश व्यक्त किया गया। इस दौरान पदाधिकारियों द्वारा रैली निकालकर शासन के तुगलकी फरमान की प्रतियां भी जलाई गई। फेडरेशन के निर्णय अनुसार वेतन कटौती आदेश की प्रति जिले एवम् 146 विकासखंडों में भी जलाई गई।

फेडरेशन के आंदोलन को लेकर मुख्यमंत्री के द्वारा चर्चा हेतु द्वार खुले रहने के बयान का स्वागत करते हुए एक सकारात्मक संदेश बताया है । मुख्यमंत्री के पहल पर मंत्रालय में फेडरेशन के प्रतिनिधियों के साथ सामान्य प्रशासन विभाग के सचिव डी डी सिंह एवम् डॉ. कमलप्रीत के साथ इस मुद्दों को लेकर विस्तार से चर्चा हुई है। फेडरेशन ने इन मांगों को लेकर कई सुझाव भी दिए हैं।

बैठक में फेडरेशन ने वेतन कटौती आदेश का विरोध करते हुए कोषालय अधिकारियों एवम् कुछ डीडीओ द्वारा की जा रही नियम विरुद्ध कार्यवाही का भी पुरजोर विरोध किया था। सचिव सामान्य प्रशासन ने अधिकारियों द्वारा इस आदेश का गलत व्याख्या करने एवम् आदेश अस्पष्ट व त्रुटिपूर्ण बताते हुए वेतन नहीं काटने हेतु हस्तक्षेप करने की बात कही। शासन के पहल पर प्रदेश के कर्मचारियों को बिना कटौती किए माह जुलाई का पूर्ण वेतन भुगतान किया गया है।

फेडरेशन ने कमर तोड़ महंगाई से त्रस्त प्रदेश के कर्मचारियों को राजस्थान,मध्यप्रदेश के तर्ज पर छत्तीसगढ़ सरकार को शीघ्र 34 प्रतिशत महंगाई भत्ता देने की मांग को दुहराई है।

शासन द्वारा पूर्व में जारी 10 प्रतिशत डीए का एरियर्स का भी निर्णय लेने से प्रदेश के कर्मचारियों को लाखों रुपए का नुकसान हुआ है। साथ ही छत्तीसगढ़ सरकार वर्तमान में 22 प्रतिशत मंहगाई भत्ता का भुगतान कर रही है। इसी प्रकार सातवे वेतन के स्थान पर छटवे वेतन में 2016 से गृहभाड़ा भत्ता स्वीकृत किया जा रहा है।जिसके कारण छत्तीसगढ़ के कर्मचारियों को लाखों का आर्थिक नुकसान उठाना पड़ रहा है।

छत्तीसगढ़ कनिष्ठ प्रशासनिक सेवा संघ के प्रांत अध्यक्ष ने फेडरेशन के संयोजक से भेंट कर 22 अगस्त से अनिश्चितकालीन कालीन आंदोलन पर जाने हेतु पूर्ण समर्थन दिया। प्रतिनिधिमंडल में संध्या नामदेव,कृष्ण कुमार साहू,लखेश्वर प्रसाद किरण,शशि भूषण सोनी शामिल थे।

फेडरेशन ने चौथे चरण के अनिश्चितकालीन आंदोलन जो कि 22 अगस्त 22 से घोषित है, को सफल बनाने प्रदेश के सभी जिलों के लिए पर्यवेक्षक नियुक्त किया है। सभी पर्यवेक्षक जिलों में जाकर बैठक लेकर तैयारियों की समीक्षा कर मार्गदर्शन एवम् आवश्यक दिशा निर्देश दे रहे हैं।

प्रांतीय निकाय द्वारा सभी संयोजकों को 10 अगस्त तक बैठक संपन्न कराने निर्देश जारी किए है।रायपुर जिला संयोजक उमेश मुदलियार एवम् महासचिव राजेश सोनी ने रायपुर जिले के लिए की गई तैयारियों के संबंध में विस्तार से बताया है।इस दौरान मौजूद अन्य जिला अध्यक्ष ने भी अनेक सुझाव दिए हैं।इस अवसर पर ब्लॉक संयोजकों ने ब्लॉक स्तर पर को गई तैयारियों से अवगत कराया।संभाग प्रभारी चंद्रशेखर तिवारी एवम् संभाग संयोजक अजय तिवारी ने आंदोलन के संबंध में दिशा निर्देश देते हुए कार्यालयों में हड़ताल सूचना फॉर्म 16 से 18 अगस्त तक वितरित करने कार्ययोजना को अंतिम रूप दिया।

प्रांतीय संयोयक कमल वर्मा ने सभी साथियों को एकजुटता के साथ तन मन धन से सहयोग करते हुए आंदोलन को सफल बनाने अनेक टिप्स दिए।

बैठक में सत्येंद्र देवांगन प्रदेश अध्यक्ष अपाक्स, ऋतु परिहार, एम.एल.चंद्राकर,संतोष वर्मा, सुनील नायक, ममता गायकवाड,फारुख कादरी,मुक्तेश्वर देवांगन, हेम साहू, पवन सिंह, ओम प्रकाश, नरेश वाढेर,गौतम हाजरा,संतलाल साहू, सी एस पटेल,विमल कुंडू, राजन बघेल,आदर्श मिर्गे,पीतांबर पटेल आदि उपस्थित रहे।