ओएफबी ने मरीजों की स्क्रीनिंग, आइसोलेशन और क्‍वारंटाइन के लिए दो बेड वाले टेंट तैयार किए

दिल्ली/रायपुर(khabarwarrior)आयुध निर्माणी बोर्ड (ओएफबी) कोरोना वायरस (कोविड-19) के खिलाफ लड़ाई में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है। इस महामारी के खिलाफ ओएफबी की अथक लड़ाई जारी है।

ओएफबी ने मरीजों की स्क्रीनिंग, आइसोलेशन और क्‍वारंटाइन के लिए चिकित्सा उपकरणों से लैस दो बेड वाले टेंट तैयार कर आइसोलेशन वार्ड के लिए एक किफायती समाधान या विकल्‍प पेश किया है।

इन विशेष टेंटों (तंबू) का उपयोग आपातकालीन चिकित्सा, मेडिकल स्क्रीनिंग, गंभीर हालत वाले मरीजों को प्राथमिक चिकित्‍सा सुविधा देने और क्‍वारंटाइन के लिए किया जा सकता है।

9.55 वर्ग मीटर के फर्श क्षेत्र (फ्लोर एरि‍या) वाले ये टेंट दरअसल जलरोधक कपड़े, हल्के स्टील और अल्यूमीनियम मिश्र धातु से तैयार किए गए हैं।

ये टेंट किसी भी स्थान एवं इलाके में स्थापित किए जा सकते हैं और कुछ ही समय के भीतर पारंपरिक अस्पतालों में मिलने वाली सुविधाओं के अलावा अतिरिक्त सुविधाएं सुलभ कराने में मददगार साबित होते हैं।

आयुध उपकरण कारखाना, कानपुर ने ये टेंट तैयार किए हैं। इस तरह के 50 टेंट अरुणाचल प्रदेश सरकार को भेजे गए हैं।

हैंड सैनिटाइजर और फेस मास्क,आयुध निर्माणी बोर्ड की एक इकाई ऑप्टो इलेक्ट्रॉनिक्स फैक्टरी, देहरादून ने 6 अप्रैल, 2020 को उत्तराखंड के राज्यपाल को हैंड सैनिटाइजर की 2,500 बोतलें (प्रत्‍येक 100 मिली लीटर) और 1,000 फेस मास्क दान में दिए हैं।

ओएफबी की एक इकाई कोर्डाइट फैक्टरी, अरुवंकडु ने 08 अप्रैल, 2020 को तमिलनाडु के नीलगिरी जिले के पुलिस अधिकारियों को 100 लीटर सैनिटाइजर दिए।

पुणे स्थित हाई एक्सप्लोसिव्स फैक्टरी (एचईएफ) ने 9 अप्रैल, 2020 को मेसर्स एचएलएल, बेलगावी को 2,500 लीटर सैनिटाइटर की पहली खेप भेजी।

धूम्रीकरण कक्ष,आयुध निर्माणी अंबाझरी (ओएफएजे), नागपुर ने स्वच्छता के उद्देश्य से धूम्रीकरण कक्ष विकसित किया है। यह पूरी तरह से पोर्टेबल है और इसे आसानी से कहीं भी ले जाया (शिफ्ट) जा सकता है। इसे ओएफएजे अस्पताल के मुख्य प्रवेश द्वार पर स्थापित किया गया है।

हैंडवाशिंग सिस्टम,आयुध निर्माणी, देहरादून ने 7 अप्रैल, 2020 को पुलिस अधिकारियों को ‘साबुन बनाने की मशीन से लैस स्वदेश निर्मित पैडल संचालित हैंडवाशिंग सिस्टम’ सौंपा।

आयुध निर्माणी देहु रोड, पुणे ने 6 अप्रैल, 2020 को देहुगांव में मजदूरों के बीच भोजन किटों का वितरण किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.